NEW DELHI,: -3 former VCs to teach law at O.P. Jindal Global University////गाजियाबा-रिलाइबल इन्स्टीटयूट् में केरियर डेवलपमेट का आयोजन किया///NEW DELHI- S Jaishankar Launches PhD Fellowship Programme For ASEAN Students At IITs///Hyderabad- St Francis College Girls College Withdraws Long Kurti Dress Code/// जम्मू : भातरीय समूह गान में महिला कॉलेज अव्वल////¨बिलावर (KATHUA-JAMMU KASHMIR)- सेक्रेड हार्ट कान्वेंट स्कूल में ट्रैफिक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित ////लुधियाना-एचवीएम कॉन्वेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल में प्रतियोगिता करवाई ///AMRITSAR- भवंस एसएल पब्लिक स्कूल में स्टूडेंट्स के लिए काउंसलिंग सत्र///ग्वािलयर- राजा मानसिंह तोमर म्यूजिक एंड आर्ट यूनिवर्सिटी में हुई कथक कार्यशाला //भरतपुर-राष्ट्रीय समूह गान प्रतियोगिता में अग्रसेन विद्यापीठ प्रथम,///JAIPUR--सिम्बायोसिस लाॅ स्कूल ने जीता आरयू में मूट काेर्ट काॅम्पिटिशन//CHANDIGARH- T.S. Central State Library celebrated birthday of PM///CHANDIGARH.-STM Program for NTU and PU students commences at PU////NEW DELHI- NGMA and Ministry of Culture present Upendra Maharathi the Eternal Teacher.///MEHGALAYA- Hopewel EliasSchool Meghalaya Crowned Champions of U-17 ///जम्मू :लेह में खुलेगी क्रिकेट स्पोर्ट्स अकादमी : अनुराग///
दिन में नाइट गाउन पहनना महिलाओं पर पड़ सकता है
दिन में नाइट गाउन पहनना महिलाओं पर पड़ सकता है भारी, देना होगा जुर्माना


नई दिल्ली: कभी कॉलेज गर्ल्स के जींस पहनने पर रोक तो कभी स्कर्ट पहनने पर मिलने वाले ताने. देश में हर रोज कुछ न कुछ अजीबो-गरीब फरमान जारी किए जाते रहते हैं. इसी बीच आंध्र प्रदेश के टोकलपल्ली गांव में महिलाओं के दिन में नाइट गाउन पहनने पर रोक लग गई है. अगर दिन में कोई भी महिला गाउन में नजर आ गई तो उसे 2 हजार रुपये का जुर्माना भरना पड़ेगा.

टोकलपल्ली गांव के बड़े-बुजुर्गों ने इस फरमान को जारी किया है और कहा है कि दिन के वक्त अगर यहां की महिलाएं नाइट गाउन पहनती हैं तो उन्हें 2000 रुपये फाइन देना होगा. इतना ही नहीं दिन में नाइट गाउन पहनने वाली महिलाओं के बारे में जानकारी देने वाले व्यक्ति को ईनाम भी दिया जाएगा.
टोकलपल्ली गांव आंध्रप्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले में स्थित है. खबरों के मुताबिक, इस गांव में करीब 11 हजार परिवारों में 36 हजार लोग रहते हैं. इस फरमान के बाद जब गांव में तहसीलदार और पुलिस ने दौरा किया तो इस अजीबोगरीब नियम के विरोध में कोई भी महिना सामने नहीं आई. रिपोर्ट की मानें तो कुछ लोगों ने कहा कि ये फैसला महिलाओं की सहमति से ही लिया गया है.
(updated on November 13th, 2018)