नई दिल्‍ली: बताएं अपने बेहतर काम मिलेगा राष्ट्रपति सम्मान ///गोवा में रात पौने 2 बजे हुआ शपथ ग्रहण समारोह, प्रमोद कुमार सावंत बने नए मुख्‍यमंत्री//HONGKONG-Athletics: India finishes second in medal tally at Asian Youth C'ships///RANCHI-Awareness campaign for children & youth kicks off at DPS////NEW DELHI. ‘If your child doesn’t ask you about sex and puberty, talk about it anyway’///Santa Clarita Resident Named New Coordinator of Student Exchange Program///IIT-Hyderabad healthcare entrepreneurship fellowship: Applications open, stipend Rs 50,000///NEW DELHI-CBSE Asks Schools To Learn From Each Other, Principals To Lead With Pedagogical Approach///NEW DELHI. NCERT drops 3 chapters from Class 9, one on caste struggles///BHOPAL-NLIU Holds NLIU-India Foundation Constitutional Law Symposium///भोपाल -नूतन कॉलेज में छात्राओं के लिए शुरू किया ओपन जिम ///जयपुरः-आईआईआईएम में बिज़नेस प्लान प्रतियोगिता-रूपांतर आयोजित///रायपुर -स्टूडेंट्स ने ढोल-नगाड़ों की थाप पर डांस करते हुए खेली होली, गाए फाग गीत ///NEW DELHI. -World Consumer Rights Day 2019 Observed///KAPURTHALA. साइंस सिटी के वार्षिक दिवस पर विद्यार्थियों ने 165 के करीब मॉडल प्रदर्शित किए///रोहतक-एमडीयू में प्रो. अजमेर सिंह मलिक प्रो. रंजना अग्रवाल के विशेष व्याख्यान ////
वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा तरीका, ब्रेन हेमरेज का इलाज
वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा तरीका, ब्रेन हेमरेज का इलाज संभव


लंदन: वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क में रक्तस्राव और आघात के खतरे को कम करने के लिए एक दवाई की पहचान की है. इस दवाई को यूरिया से संबंधित विकारों के इलाज के लिए पहले ही मंजूरी दी जा चुकी है. ‘कोलेजन 4’ (सी4) नामक जीन में खामी से मस्तिष्क में रक्तस्राव होता है, जिससे मस्तिष्काघात पड़ सकता है. सी4 जीन के क्षरण से आंख, गुर्दे और रक्तवाहिकाओं संबंधी ऐसे रोग हो सकते हैं, जिससे मस्तिष्क में रक्त वाहिकाएं प्रभावित होती हैं और मस्तिष्क में रक्तस्राव हो सकता है जो बचपन में भी हो सकता है.

ब्रिटेन के मैनचेस्टर और एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पाया कि चूहों के ‘कोलेजन 4’ में भी इसी तरह की खामी होती है और उन्हें भी ऐसी ही बीमारी हो सकती है. पत्रिका ‘ह्यूमन मॉलीक्यूलर जेनेटिक्स’ में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार सोडियम फेनिल ब्यूटीरीक एसिड के इस्तेमाल से मस्तिष्क में रक्तस्राव में कमी आ सकती है. हालांकि, इस उपचार से आंख या गुर्दे की अनुवांशिक बीमारियों का इलाज नहीं किया जा सकता. (updated on November 27th, 2018)
PLEASE NOTE :: More Past News you can see on our "PAST NEWS" Coloumn