NEW DELHI- IGNOU has launched a Certificate Programme in Yoga.///JEDDAH-International Day of Yoga held at International Indian School//NEW DELHI- Spend more on education, hygiene, woman safety, say social sector experts///नई दिल्ली: अब टैक्स चोरी करने पर होगी कड़ी कार्रवाई, कंपाउंडिंग लेना अधिकार नहीं///CHANDIGARH- Punjab Government Prohibits Sale Of Uniform, Books In Schools///PUDUCHERRY-P. Arumugam receives Gandhi Lifetime Achievement Award//NEW DELHI- PM Modi invites suggestions from people for 'Mann Ki Baat' programme//BENGLURU- New Education Policy protects Indian languages: Prof MK Sridhar///NEW DELHI- NHRC seeks report on Rajasthan children being pawned for Rs 1,500-2,000///JALANDHAR- Nivedita Sharma Of SHIPS participated in Science Challenge ////
Uttar Pradesh News in Detailed
जेल में अंजू ने दो टूक कहा कोई जुर्म नहीं किया मैंने*
जेल में अंजू ने दो टूक कहा कोई जुर्म नहीं किया मैंने*


वाराणसी : लोकसेवा आयोग के पेपर लीक मामले में गिरफ्तार निलंबित परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार ने शनिवार को जेल में विवेचना अधिकारी के सवालों के जवाब देने से मना कर दिया। उन्होंने दो टूक कहा कि जो जवाब देना होगा वह अदालत में देंगी। यह भी कहा कि वह चाहती थीं कि उन्हें आयोग से हटा दिया जाए मगर शासन में उनकी नहीं सुनी गई।एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा 2018 के पेपर लीक मामले की विवेचना कर रहे सीओ पिंडरा अनिल राय अदालत से अनुमति लेकर शनिवार दोपहर जिला जेल पहुंचे। मुलाकाती कक्ष में अंजू कटियार को उनके सामने लाया गया। विवेचना अधिकारी अनिल राय सवालों की सूची बनाकर ले गए थे लेकिन अंजू ने साफ कह दिया कि मैंने कोई जुर्म नहीं किया है। जो भी बयान और सफाई देनी होगी, अदालत में दूंगी। सीओ ने एक लाइन का उनका यही बयान दर्ज कर लिया। सवालों के जवाब देने के बजाय अंजू ने बहुत कुछ कहा। यह भी बोलीं कि वह खुद लोकसेवा आयोग से स्थानांतरण का प्रयास कर रही थीं। इस अनुरोध के साथ 22 पत्र लिखे शासन को। प्रमुख सचिव से भी मिलीं मगर उनकी नहीं सुनी गई। बोलीं, मैंने गलत काम में साथ नहीं दिया इसलिए आयोग के अधिकारियों और एसटीएफ ने साजिश कर फंसा दिया। अंजू ने यह भी कहा कि उन्हें पुलिस पर भरोसा नहीं है।

सीओ ने जेल में बंद पेपर लीक मामले के आरोपी प्रिंटिग प्रेस मालिक कौशिक कुमार से सवाल किए लेकिन उसने भी कह दिया कि वह बेगुनाह है। कोर्ट में जवाब देगा। उसने बताया कि उससे मिलने आए परिजनों से एक व्यक्ति ने खुद को वकील बताकर जमानत कराने का झांसा देकर तीन लाख रुपये ऐंठ लिए। अलबत्ता उसने यह जरूर कहा कि पूवरेत्तर राज्यों की भी भर्ती परीक्षाओं के पेपर उसने छापे लेकिन कभी कोई गड़बड़ी नहीं हुई।(UPDATED ON JUNE 8TH, 2019)
PLEASE NOTE :: More Past News you can see on our "PAST NEWS" Coloumn