NEW DELHI. Kiren Rijiju Inaugurates India-Kazakhstan Cultural-Educational Center in Delhi///RANCHI- DPS Nursery students celebrated Janamashtmi//CHANDIGARH: Punjab Board Offers- Pay Rs. 15000 and appear in Compartment exam///GORAKHPUR:-fourth convocation of Madan Mohan Malaviya University of Technology (MMMUT////BETIA:-How two teenage girls are breaking stereotypes on Bihar highway////Air Force Common Admission Test (AFCAT) Postponed At Srinagar Centre///NEW DELHI- Heart disease in children blue means lack of oxygen///गाजियाबाद,.-रिलायबल इन्स्टीट्यूट में जन्माष्टमी महोत्सव का आयोजन किया//गाजियाबाद,.एबीईएस इंजीनियरिंग काॅलेज में श्खेलकूद व सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित////LUDHIANA. Sacred Soul Convent celebrated Janamashtami////
Member's Article

बलदेव धीमान
भारत और पाकिस्तान के सम्बंधों के बारे में वर्तमान स्थिति की चर्चा करने से पहले शायद यही उचित होगा कि 1947 में जब पाकिस्तान आस्त्वि में आया था उसी समय भारत पाकिस्तान के आपस में कैसे सम्बन्ध रहे । यह तो वही हाल है जब भाई से भाई अलग होता है। और एक दूसरे के वो विना वजह दुश्मन बन जाते है।

भारत के अलग होते ही पाकिस्तान ने भारत के कश्मीर क्षेत्र में नाजायज कब्जा किया और तभी से भारत में आंतकवादी भेजकर आज तक भारत को आँखें दिखाने का काम किया । ताकि भारत में अस्थिरता बनी रहे और पीओके पर उनका कब्जा बना रहे। आज तक भारत में जिस भी पार्टी की सरकार रही शायद वो दृढ़ इच्छा शक्ति नहीं सामने आई जो वर्तमान सरकार में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिखाई और पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाने के साथ साथ भारत की सेना की छवि और सैनिकों के आत्मबल को भी और बल मिला ।

वर्तमान प्रधानमंत्री ने जो एक बात 2014 में कही थी कि ‘‘राष्ट्र पहले ’’ को भी सार्थक किया । आज भारतीय जनता में देश प्रेम और राष्ट्र भक्ति की भावना पहले से कहीं अधिक मजबूत हुई है। प्रत्येक व्यक्ति के मन में ‘ मेरा भारत महान ’ नारे से ऊपर उठकर वास्तविक स्थिति में आया है। आंतकवाद का दंश उन सैनिकों के घरों में जाकर देखना चाहिए जिन्होंनें देष के लिए अपना चिराग न्योछावर किया है । नये नेता व पार्टी क्या जाने जिन्होंनें अपने घर संवारने और पार्टी को खानदानी जागीर बना रखा हो ।

शायद आज वो आतंकवाद को समाप्त करने के प्रधानमंत्री के संकल्प से सहमत न हो । परन्तु उन्हें आतंकवाद से प्रभावित अपने परिवार की कुर्बनियों को भी याद करना चाहिए तभी सर्जिकल स्ट्राइक -2 के सबूत मांगने चाहिए । इस समय सभी पार्टियों के नेताओं को एक जुटकर होकर आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देश पर किए प्रहार का खुलकर समर्थन करना चाहिए न कि बात -बात पर सबूत मांगने चाहिए । अतः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लिया गया यह कड़ा फैसला सराहनीय है और जनता में अगर विवेक होगा कि ऐसे प्रधानमंत्री के हाथों देश सुरक्षित है तो निश्चित तौर पर आगे आने वाले चुनावों में इसी पार्टी को ही लाभ मिलेगा और आगे आने वाले समय में भारत को विष्वगुरू बनने से कोई भी नहीं रोक पाएगा । यही सच्चा देष प्रेम और राष्ट्रभक्ति है। देष है तो हम है। अगर देष ही नहीं जो फिर हम कहाँ । पार्टी से कहीं ऊपर है देश भक्ति ।

‘ जय हिन्द ’

--------------

WRITER'S DETAILS

बलदेव धीमान
Retired Principal,
Sanjeeveni Charitable Trust,
Village Kakriana, PO Didwin, Tikkar, District, Hamirpur, HP
Email : baldev48dhiman@gmail.com

============